तो इन वजहों से खराब रिश्ते को भी निभाती हैं लड़कियां, नहीं तोड़ना चाहतीं रिलेशनशिप

0

रिलेशनशिप में मनमुटाव होना सामान्य है। बहुत सी रिलेशनिप में देखा गया है कि पुरुष पार्टनर अपनी महिला पार्टनर के साथ भावनात्मक या अन्य मामलों में अच्छा बर्ताव नहीं करते लेकिन फिर भी लड़कियां उस रिश्ते को बचाने का हर जतन करती हैं। वह ऐसा करने में कई बार अपनी गलती न होते हुए भी हार मान लेती हैं और अपने रिश्ते को अपने ईगो से ऊपर जगह देती हैं। इसके पीछे लड़कियों की एक सकारात्मक मनोवैज्ञानिक सोच होती है जो उन्हें रिश्ते तोड़ने की बजाय उसे ढोने को विवश करती है। तो आइए जानते हैं कि वे क्या वजहें हैं जिनकी वजह से रिश्तों के बोझ हो जाने के बाद भी लड़कियां उन्हें तोड़ने की बजाय ढोने को क्यों तवज्जो देती हैं।

1. महिलाएं रिश्तों को लेकर बहुत पॉजिटिव रहती हैं। रिश्तों में आई कड़वाहट को वे यह सोचकर ढोटी हैं कि एक न एक दिन सब ठीक ही हो जाना है, इसीलिए वह इसका विरोध भी नहीं करतीं। यही सकारात्मकता उनके रिश्तों को बचाकर रखती है।

2. लड़कियों के लिए अक्सर उनके दोस्त, घर के लोग बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। ऐसे में वह रिश्तों की कड़वाहट को इसलिए भी छिपाकर रखती हैं कि कहीं लोग उसे ही गलत न समझें या फिर कहीं लोगो यह न कहना शुरू कर दें कि उससे एक रिश्ता नहीं निभाया गया।

3. कई लड़कियों में यह खासियत होती है कि वे अपना गुस्सा कुछ ही देर में भूल जाती हैं। ऐसी लड़कियां भी अपने रिश्ते को तमाम बुराइयों के बावजूद सहेजकर रखना चाहती हैं। वो हमेशा अच्छी यादों के लिए बेजान रिश्ते का बोझ ढोने को तैयार रहती हैं।

4. लड़कियां अपनी जिंदगी की कुछ सीक्रेट्स सबके साथ साझा नहीं करतीं। वह अपने सबसे करीबी साथी को इसके बारे में बताती हैं। ऐसे में यह भी एक कारण है कि जब कभी भी लड़कियों का अपने करीबी पार्टनर से मनमुटाव होता है तो वह उनसे अलग नहीं होना चाहती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें यह डर होता है कि कहीं इस अलगाव की वजह से उसके वे सीक्रेट्स बाहर न आ जाएं।

5. कुछ लड़कियां अपने पार्टनर से इस कारण भी अलग नहीं होना चाहती हैं क्योंकि वह उनका पहला प्यार होता है। वो अपने पहले प्यार के साथ अपनी जिंदगी के अंतिम समय तक रहना चाहती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here